बुधवार, 23 फ़रवरी 2011

चरित्रवान बनो


चरित्रवान बनो , संसार स्वयं तुम पर मुग्ध होगी !  फूल खिलने दोगे तो मधुमंखियाँ स्वतः ही चली आएँगी!

1 टिप्पणी:

Abnish Singh Chauhan ने कहा…

सही कहा आपने. बधाई स्वीकारें. अवनीश सिंह चौहान